जब थम गई बिस्मिल्‍लाह की शहनाई की स्‍वरलहरियां..!

By mpnews.co.in Fri, Aug 21st 2015 व्यक्ति-ब्लॉग     

वह गंगा को संगीत सुनाते थे। उनकी आत्‍मा का नाद उनकी शहनाई की स्‍वरलहरियों में गूंजता हुआ हर सुबह बनारस को संगीत के रंग से सराबोर कर देता था। शहनाई उनके कंठ से लगकर नाद ब्रम्‍ह से एकाकार होती थी और विश्राम के भीतर मिलन के स्‍वर गंगा की लहरों से मिलते हुए अनंत सागर की ओर निकल पड़ते थे। एक दिन उसी शहनाई के सुर थम गए और अपने राम में विश्राम करते हुए सुरों की अनंत यात्रा पर निकल पड़े।
भारत रत्‍न उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खान की शहनाई आज ही के दिन यानी की 21 अगस्‍त 2006 को थम गई और दोबारा फिर उसमें से संगीत के स्‍वर नहीं गूंजे। बनारस, गंगा और बाबा विश्‍वनाथ ने शहनाई के उन स्‍वरों को अपने भीतर समाहित कर लिया। लेकिन उस्‍ताद की शहनाई की स्‍वरलहरियां अखिल ब्रम्‍हांड में आज भी गूंज रही हैं।
ऐसे शुरू हुआ सुरों का सफर : उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खान का जन्‍म बिहार के डुमरांव में 21 मार्च 1916 को एक मुस्लिम परिवार में पैगम्बर खां और मिट्ठन बाई के यहां हुआ था। बिहार के डुमरांव के ठठेरी बाजार के एक किराए के मकान में पैदा हुए उस्‍ताद का बचपन का नाम क़मरुद्दीन था। उस्‍ताद अपने माता-पिता की दूसरी सन्तान थे। कहा जाता है कि चूंकि उनके बड़े भाई का नाम शमशुद्दीन था, इसलिए उनके दादा रसूल बख्श ने उन्‍हें "बिस्मिल्लाह! नाम से पुकारा, जिसका अर्थ था अच्‍छी शुरुआत और यही नाम ता-उम्र रहा।
उस्‍ताद के खानदान के लोग राग दरबारी में माहिर थे, जो बिहार की भोजपुर रियासत में अपने संगीत का हुनर दिखाने के लिए अक्सर जाया करते थे। उनके पिता बिहार की डुमरांव रियासत के महाराजा केशव प्रसाद सिंह के दरबार में शहनाई बजाया करते थे। 6 साल की उम्र में बिस्मिल्ला खां अपने पिता के साथ बनारस आ गये। वहां उन्होंने अपने चाचा अली बख्श 'विलायती' से शहनाई बजाना सीखा। उनके उस्ताद चाचा 'विलायती' विश्वनाथ मन्दिर में स्थायी रूप से शहनाई-वादन का काम करते थे।
देश की आजादी में गूंजे बिस्मिल्‍लाह के स्‍वर : 15 अगस्‍त 1947 को देश की आज़ादी की पूर्व संध्या पर लालकिले पर फहराते तिरंगे के साथ बिस्मिल्लाह ख़ान की शहनाई की स्‍वरलहरियां भी आजाद भारत के आजाद आसमान में शांति की संगीत बनकर फैल रही थी। कमाल था की लगभग हर साल 15 अगस्त को प्रधानमंत्री के भाषण के बाद बिस्मिल्लाह ख़ान का शहनाई वादन देश के स्‍वतंत्रता उत्‍सव की एक प्रथा बन गई।
इस संगीत को रचा उस्‍ताद ने : एक ऐसे दौर में जबकि गाने-बजाने को सम्‍मान की निगाह से नहीं देखा जाता था, तब बिस्मिल्ला ख़ां ने 'बजरी', 'चैती' और 'झूला' जैसी लोकधुनों में बाजे को अपनी तपस्या और रियाज़ से ख़ूब संवारा और क्लासिकल मौसिक़ी में शहनाई को सम्मानजनक स्थान दिलाया। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि ख़ां साहब की मां कभी नहीं चाहती थी उनका बेटा शहनाई वादक बने। वे इसे एक हल्‍का काम समझती थी कि क्‍योंकि शहनाईवादकों उसे समय शादी ब्‍याह और अन्‍य समारोह में बुलाया जाता था।
ऐसी जुगलबंदियां जिनका कोई सानी नहीं था : बिस्मिल्ला ख़ां ने शहनाई को मंदिरों, राजे-रजवाड़ों के मुख्य द्वारों और शादी-ब्याह के अवसर पर बजने वाले लोकवाद्य से निकालकर शास्‍त्रीय संगीत की गलियों में प्रवेश कराया। उस्‍ताद ने अपने मामा उस्ताद मरहूम अलीबख़्श के कहे मुताबिक शहनाई को 'शास्त्रीय संगीत' का वाद्य बनाने में जिंदगी भर जितनी मेहनत की उसकी कोई मिसाल नहीं है। उस्ताद ने कई जाने-माने संगीतकारों के साथ जुगलबंदी कर पूरी दुनिया को चौंका दिया। उस्‍ताद ने अपनी शहनाई के स्‍वर विलायत ख़ां के सितार और पण्डित वी. जी. जोग के वायलिन के साथ जोड़ दिए और संगीत के इतिहास में स्‍वरों का नया इतिहास रच दिया। ख़ां साहब की शहनाई जुगलबंदी के एल. पी. रिकॉड्स ने बिक्री के सारे रिकॉर्ड तोड़ डाले। बहुत ही कम लोग जानते होंगे कि उस्‍ताद के इन्हीं जुगलबंदी के एलबम्स के आने के बाद जुगलबंदियों का दौर चला।
दुनिया की सैर और फिल्‍मी सफर : उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खान की शहनाई की धुन बनारस के गंगा घाट से निकलकर दुनिया के कई देशों में बिखरती रही। उनकी शहनाई अफ़ग़ानिस्तान, यूरोप, ईरान, इराक, कनाडा, पश्चिम अफ़्रीका, अमेरिका, भूतपूर्व सोवियत संघ, जापान, हांगकांग और विश्व भर की लगभग सभी राजधानियों में गूंजती रही। उनकी शहनाई की गूंज से फिल्‍मी दुनिया भी अछूती नहीं रही। उन्होंने कन्नड़ फ़िल्म सन्नादी अपन्ना, हिंदी फ़िल्म गूंज उठी शहनाईऔर सत्यजीत रे की फ़िल्म जलसाघर के लिए शहनाई की धुनें छेड़ी। आखिरी बार उन्होंने आशुतोष गोवारिकर की हिन्दी फ़िल्मस्वदेश के गीतये जो देश है तेरामें शहनाई की मधुर तान बिखेरी।
संगीत से दिलों को जोड़ने का सपना: संगीत-सुर और नमाज़ इन तीन बातों के अलावा बिस्मिल्लाह ख़ां की जिंदगी में और दूसरा कुछ न था। संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, पद्म श्री, पद्म भूषण, पद्म विभूषण, तानसेन पुरस्कार से सम्‍मानित उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खान को साल 2001 मे भारत के सर्वोच्‍च सम्‍मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया। यकीनन उस्‍ताद के लिए जीवन का अर्थ केवल संगीत ही था। उनके लिए संगीत के अलावा सारे इनाम-इक़राम, सम्मान बेमानी थे। वे संगीत से देश को एकता के सूत्र में पिरोना चाहते थे। वे कहते थे "सिर्फ़ संगीत ही है, जो इस देश की विरासत और तहज़ीब को एकाकार करने की ताक़त रखता है"। इंडिया गेट पर शहनाई बजाने की इच्‍छा रखने वाले उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खान की आखिरी इच्‍छा अधूरी ही रही और उन्‍होंने 21 अगस्‍त 2006 को इस दुनिया में अंतिम सांस ली और उस अंतिम सांस के साथ आत्‍मा को परमात्‍मा से जोड़ने वाली उनकी शहनाई की धुनें हमेशा के लिए खामोश हो गई।
ऐसे शुरू हुआ सुरों का सफर : उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खान का जन्‍म बिहार के डुमरांव में 21 मार्च 1916 को एक मुस्लिम परिवार में पैगम्बर खां और मिट्ठन बाई के यहां हुआ था। बिहार के डुमरांव के ठठेरी बाजार के एक किराए के मकान में पैदा हुए उस्‍ताद का बचपन का नाम क़मरुद्दीन था। उस्‍ताद अपने माता-पिता की दूसरी सन्तान थे। कहा जाता है कि चूंकि उनके बड़े भाई का नाम शमशुद्दीन था, इसलिए उनके दादा रसूल बख्श ने उन्‍हें "बिस्मिल्लाह! नाम से पुकारा, जिसका अर्थ था अच्‍छी शुरुआत और यही नाम ता-उम्र रहा।
उस्‍ताद के खानदान के लोग राग दरबारी में माहिर थे, जो बिहार की भोजपुर रियासत में अपने संगीत का हुनर दिखाने के लिए अक्सर जाया करते थे। उनके पिता बिहार की डुमरांव रियासत के महाराजा केशव प्रसाद सिंह के दरबार में शहनाई बजाया करते थे। 6 साल की उम्र में बिस्मिल्ला खां अपने पिता के साथ बनारस आ गये। वहां उन्होंने अपने चाचा अली बख्श 'विलायती' से शहनाई बजाना सीखा। उनके उस्ताद चाचा 'विलायती' विश्वनाथ मन्दिर में स्थायी रूप से शहनाई-वादन का काम करते थे।
देश की आजादी में गूंजे बिस्मिल्‍लाह के स्‍वर : 15 अगस्‍त 1947 को देश की आज़ादी की पूर्व संध्या पर लालकिले पर फहराते तिरंगे के साथ बिस्मिल्लाह ख़ान की शहनाई की स्‍वरलहरियां भी आजाद भारत के आजाद आसमान में शांति की संगीत बनकर फैल रही थी। कमाल था की लगभग हर साल 15 अगस्त को प्रधानमंत्री के भाषण के बाद बिस्मिल्लाह ख़ान का शहनाई वादन देश के स्‍वतंत्रता उत्‍सव की एक प्रथा बन गई।
इस संगीत को रचा उस्‍ताद ने : एक ऐसे दौर में जबकि गाने-बजाने को सम्‍मान की निगाह से नहीं देखा जाता था, तब बिस्मिल्ला ख़ां ने 'बजरी', 'चैती' और 'झूला' जैसी लोकधुनों में बाजे को अपनी तपस्या और रियाज़ से ख़ूब संवारा और क्लासिकल मौसिक़ी में शहनाई को सम्मानजनक स्थान दिलाया। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि ख़ां साहब की मां कभी नहीं चाहती थी उनका बेटा शहनाई वादक बने। वे इसे एक हल्‍का काम समझती थी कि क्‍योंकि शहनाईवादकों उसे समय शादी ब्‍याह और अन्‍य समारोह में बुलाया जाता था।
ऐसी जुगलबंदियां जिनका कोई सानी नहीं था : बिस्मिल्ला ख़ां ने शहनाई को मंदिरों, राजे-रजवाड़ों के मुख्य द्वारों और शादी-ब्याह के अवसर पर बजने वाले लोकवाद्य से निकालकर शास्‍त्रीय संगीत की गलियों में प्रवेश कराया। उस्‍ताद ने अपने मामा उस्ताद मरहूम अलीबख़्श के कहे मुताबिक शहनाई को 'शास्त्रीय संगीत' का वाद्य बनाने में जिंदगी भर जितनी मेहनत की उसकी कोई मिसाल नहीं है। उस्ताद ने कई जाने-माने संगीतकारों के साथ जुगलबंदी कर पूरी दुनिया को चौंका दिया। उस्‍ताद ने अपनी शहनाई के स्‍वर विलायत ख़ां के सितार और पण्डित वी. जी. जोग के वायलिन के साथ जोड़ दिए और संगीत के इतिहास में स्‍वरों का नया इतिहास रच दिया। ख़ां साहब की शहनाई जुगलबंदी के एल. पी. रिकॉड्स ने बिक्री के सारे रिकॉर्ड तोड़ डाले। बहुत ही कम लोग जानते होंगे कि उस्‍ताद के इन्हीं जुगलबंदी के एलबम्स के आने के बाद जुगलबंदियों का दौर चला।
दुनिया की सैर और फिल्‍मी सफर : उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खान की शहनाई की धुन बनारस के गंगा घाट से निकलकर दुनिया के कई देशों में बिखरती रही। उनकी शहनाई अफ़ग़ानिस्तान, यूरोप, ईरान, इराक, कनाडा, पश्चिम अफ़्रीका, अमेरिका, भूतपूर्व सोवियत संघ, जापान, हांगकांग और विश्व भर की लगभग सभी राजधानियों में गूंजती रही। उनकी शहनाई की गूंज से फिल्‍मी दुनिया भी अछूती नहीं रही। उन्होंने कन्नड़ फ़िल्म सन्नादी अपन्ना, हिंदी फ़िल्म गूंज उठी शहनाईऔर सत्यजीत रे की फ़िल्म जलसाघर के लिए शहनाई की धुनें छेड़ी। आखिरी बार उन्होंने आशुतोष गोवारिकर की हिन्दी फ़िल्मस्वदेश के गीतये जो देश है तेरामें शहनाई की मधुर तान बिखेरी।
संगीत से दिलों को जोड़ने का सपना: संगीत-सुर और नमाज़ इन तीन बातों के अलावा बिस्मिल्लाह ख़ां की जिंदगी में और दूसरा कुछ न था। संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, पद्म श्री, पद्म भूषण, पद्म विभूषण, तानसेन पुरस्कार से सम्‍मानित उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खान को साल 2001 मे भारत के सर्वोच्‍च सम्‍मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया। यकीनन उस्‍ताद के लिए जीवन का अर्थ केवल संगीत ही था। उनके लिए संगीत के अलावा सारे इनाम-इक़राम, सम्मान बेमानी थे। वे संगीत से देश को एकता के सूत्र में पिरोना चाहते थे। वे कहते थे "सिर्फ़ संगीत ही है, जो इस देश की विरासत और तहज़ीब को एकाकार करने की ताक़त रखता है"। इंडिया गेट पर शहनाई बजाने की इच्‍छा रखने वाले उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खान की आखिरी इच्‍छा अधूरी ही रही और उन्‍होंने 21 अगस्‍त 2006 को इस दुनिया में अंतिम सांस ली और उस अंतिम सांस के साथ आत्‍मा को परमात्‍मा से जोड़ने वाली उनकी शहनाई की धुनें हमेशा के लिए खामोश हो गई।

Similar Post You May Like

  • पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह का प्रोफाइल....

    पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह का प्रोफाइल....

    नई दिल्ली: क्या आप जानते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह हिन्दी नहीं पढ़ सकते थे और उनके भाषण उर्दू में लिखे होते थे? आज यानी 26 सितंबर को डॉक्टर मनमोहन सिंह 85 साल के हो गए. 90 के दशक में भारत में आर्थिक सुधारों को लागू करने में इनकी भूमिका दुनिया भर में सम्मान और प्रशंसा पाती रही है. 1932 को जन्मे मनमोहन सिंह तब देश के वित्त मंत्री थे. आइए बेहद शांत, मिलनसार, सौम्य, थिंकर, अर्थशास्त्री औ

  • भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदीबाई की कहानी

    भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदीबाई की कहानी

    क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि आज से लगभग 150 साल पहले कोई भारतीय महिला डॉक्टरी की पढ़ाई करे? और वह भी तब जबकि डॉक्टरी की पढ़ाई भारत में न होती रही हो? आज के समाज में भी लड़कियों के प्रति होने वाले भेदभाव के बारे में में हम सबको पता है, फिर 19वीं शताब्दी में क्या होता रहा होगा इसके बारे में सिर्फ अंदाजा ही लगाया जा सकता है। आज हम आपको बता रहे हैं आनंदीबाई जोशी नाम की उस बहादुर महिला के बारे में

  • 92 के हुए भारत रत्न अटल

    92 के हुए भारत रत्न अटल

    25 दिसंबर को भारत रत्न पूर्व अटल बिहारी वाजपेयी 92 वर्ष के हो रहे है. केंद्र सरकार अटल के जन्मदिन को गुड गर्वनेंस डे के तौर पर मना रही है. अटल बिहारी वाजपेयी यूं तो भारतीय राजनीति

  • चक्रवर्ती सम्राट अशोक की कुछ रहस्यमयी बातें जिन्हें शायद ही आप जानते हों

    चक्रवर्ती सम्राट अशोक की कुछ रहस्यमयी बातें जिन्हें शायद ही आप जानते हों

    भारत के इतिहास में 304 ईसापूर्व से 232 ईसापूर्व तक अखंड भारत के राजा रह चुके सम्राट अशोक के बारे में कई ऐसी जानकारियाँ आज भी लोगों को ज्ञात नहीं हैं, जो रहस्य से भरी हैं। अखंड भारत 

  • एक ऐसा महान योद्धा जिसने कभी नहीं मानी थी हार साथ लेकर चलता था 80 किलो का भाला

    एक ऐसा महान योद्धा जिसने कभी नहीं मानी थी हार साथ लेकर चलता था 80 किलो का भाला

    जी हाँ आज हम आपको ऐसे वीर के बारे में बताने जा रहे है जिसके बारे में हर कोई सुन कर गर्व महसूस करता है उस महावीर का नाम है महाराणा प्रताप ! बचपन में या स्कूल में हमने महाराणा प्रê

  • शिवराज सबसे धनी CM

    शिवराज सबसे धनी CM

    शिवराज सिंह चौहान मध्यप्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री हैं। वे 29 नवंबर, 2005 को बाबूलाल गौर के स्थान पर राज्य के मुख्यमंत्री बने थे। चौहान राज्य में भारतीय जनता पार्टी के महासच

  • महिला सशक्तिकरण की जगी अलख

    महिला सशक्तिकरण की जगी अलख

    महिला हिंसा व दहेज प्रताडना पर हुआ मंचन रीवा। अर्न्तराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर डेज सोसायटी और आर्ट प्वाइंट के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय कार्यक्रम किया गया। इ

  • डेज बना रही है आदर्श और ऊर्वावान

    डेज बना रही है आदर्श और ऊर्वावान

    रीवा। स्वामी विवेकानंद की जयंती के असवर पर सरस्वती उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, चाणक्यपुरी पडरा रीवा में सोमवार को भाषण, गीत और प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता आयोजित हुई। इस का

  • मानव धर्म का आभास करने मे जुटी, डेज़ सोसायटी

    मानव धर्म का आभास करने मे जुटी, डेज़ सोसायटी

    डेज़ सोसायटी पिछले कई वर्षो से लोगो को जागरूक कर मानव धर्म का आभास करने मे जुटी हुई है। राष्ट्रीय एवं सामाजिक उत्थान, जनचेतना जागृत करने, सामाजिक कुरीतियों के उन्मूलन, निश&

  • श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी

    श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी

    श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी का जन्म ननिहाल मे ग्राम शाहपुर जिला रीवा में 17 सितम्बर 1926 को हुआ। श्रीनिवास तिवारी का गृह ग्राम तिवनी जिला रीवा है। माता का नाम कौशिल्या देवी और पि

ताज़ा खबर

Popular Lnks